Register with us
#
#

Each time a woman stands up for herself, without knowing it possibly, without claiming it, she stands up for all women

 --Maya Angelou

About Gender Samvaad:

With over 60 million women mobilised to be part of one of India’s largest livelihoods programme, the Deendayal Antayodaya Yojana-National Rural Livelihoods Mission (DAY-NRLM) holds great promise for advancing women’s socio-economic empowerment by organising them into self-help groups (SHGs) and federations of the rural poor. Not only are these platforms facili tating financial opportunities and livelihood support services for women, but they have also become an extended arm of governance to demand accountability from and build linkages with mainstream institutions. They also hold stories of hundreds and thousands of women – stories of hope, resilience, raising voice, getting redress, and many best practices on how institutions of poor women can help them ensure access to their rights and entitlements.

Gender Samvaad is a joint attempt between DAY NRLM and IWWAGE to create a common platform for generating greater awareness on NRLM’s interventions across the country and best practices, with a focus on hearing voices from the states and the field. Organized as a bi-monthly webinar, the Samvaad will provide states with opportunities to:

  • Understand best practices/initiatives that other states have been undertaking to improve women’s agency (e.g. facilitating women’s access to land rights, their engagement in farmer producer organizations (FPOs), best practices around FNHW, in establishing strong institutions for public service delivery, in protecting and providing redress to vulnerable groups within women (e.g. practices against witch hunting) etc.))
  • Understand gender interventions globally;
  • Engage with experts and other colleagues on suggestions regarding how to handle issues/implementation barriers;
  • Contribute to creation of a ‘gender repository’ with resource materials on best practices for gender interventions across the country/other countries; and
  • Build advocacy around the need to focus on gender issues across SRLMs and the NRLM.

In the current context of the pandemic, time is opportune to initiate such dialogues with a varied range of stakeholders to comprehend broader policies and more micro processes underlying such initiatives. In doing so, Gender Samvaad will cover stakeholders ranging from representatives of state rural livelihood missions (who would share their experiences) to NRLM’s senior officials, representatives from civil society, academia and multilateral institutions, and international experts implementing similar women’s empowerment programs around the world, who would offer their feedback and recommendations to the states.

 

Launch of Gender Samvaad, April 16, 2021

As part of the ongoing Amrut Mahotsav to celebrate the 75th Anniversary of Indian Independence, Gender Samvaad was launched on April 16, 2021 with around 1400 participants including rural women, state representatives, CSOs and academia from across India. The event was attended by senior officials of the Ministry comprising Shri. Nagendra Nath Sinha, Secretary, Ministry of Rural Development; Smt. Alka Upadhyaya, Additional Secretary, Ministry of Rural Development; and Joint Secretary, NRLM, Smt. Nita Kejrewal. Community resource persons, who are women SHG members from various states, were also invited to share their experience of overcoming several barriers to improve their lives and livelihoods. The theme for the inaugural session was "Gender Transformative Rural Livelihoods". 

 During the launch event, a compendium of case studies “Stories of Resilience and Hope” documenting good practices and stories of resilience and transformative changes among SHG women shared by various State Rural Livelihoods Missions, was launched at the event by the Secretary, Rural Development. The stories narrate systemic processes adopted to strengthen women’s groups in developing strong collectives as well as individual identities. A short film was launched by the Joint Secretary, NRLM, Smt. Nita Kejrewal, showcasing IWWAGE’s support for operationalising NRLM’s gender strategy and the various pilot interventions underway to set up institutional platforms for rural women to access justice, information, rights and entitlements. Three States- Andhra pradesh, Jharkhand and Kerala presented during the inaugural session which narrated collective struggles of women's access to livelihoods opportunities by  challenging the social norms and emerge as chamipons levraging the SHG platform. This was followed by a panel discussion that included leading gender and livelihoods experts to emphasise the importance of improving women’s livelihoods, their agency, and their understanding of their rights and entitlements. The panel comprised Dr. Lakshmi Lingam, Dean, School of Media and Cultural Studies, TISS; Ms. Sejal Dand, Director and Founder Member, ANANDI; and Dr. Renu Golwalkar, Global Director, Gender, Youth and Social Inclusion, Engender Health. The session was moderated by Soumya Kapoor Mehta, Head IWWAGE. Click here for the recording.  

 

 Gender Samvaad, second dialogue, July 2, 2021

 The second Gender Samvaad was held on June 2, 2021 on the topic :Ensuring an inclusive response and recovery from COVID:Best practices from SRLMs. The event focused on the challenges posed by the second wave of the pandemic and the extent to which States have been able to respond to these by leveraging the collective potential and solidarity of women’s groups. The dialogue showcased best practices from the states in responding to the emerging needs ranging from access to health and other services, information related to COVID-19, access to food, and opportunities for work. The online event brought together the voices of state rural livelihood mission officials together with those of women affected by the pandemic. The focus states in the second dialogue were Bihar, Kerala and Meghalaya, talking about how they have been ensuring food security for communities and access to health information across all age groups. The second dialogue was attended by more than 2400 participants form across the states. 

Smt. Aparajita Sarangi, Member of Parliament; Shri. Nagendra Nath Sinha, Secretary MoRD; Smt. Alka Upadhyaya, Additional Secretary; Smt. Nita Kejrewal, Joint Secretary from MoRD were present in the second edition of the Gender Samvaad. Senior officials from the States inlcuded Shri. Balamurugan D, CEO cum State Mission Director, Jeevika, Secretary RD, Govt. of Bihar; Shri. S. Harikishore, Executive Director, Kudumbashree, Govt. of Kerala; and Shri. P. Sampath Kumar, Principal Secretary, Govt. of Meghalaya, C&RD Dept. Health and Social Welfare Dept. Senior officers from the three States shared their insights and experiences  on the response and recovery mechansim establihed by the States using the NRLM social capital. The event also brought voices from the field, and experience sharing from women Community Resource Persons who spoke about the problems faced by their families, coping mechanisms adapted, the role their groups have played during the pandemic, the duties performed at the village level and preparedness for future challenges. View the recoding here. 

प्रत्येक बार महिला स्वयं के लिए उठ खड़ी होती है, संभवत: अनजाने में, बिना कोई दावा किए, वह सभी महिलाओं के लिए संघर्ष का प्रतीक बन जाती है।

  --माया एजेलो

जेंडर संवाद के विषय में :

60 मिलियन से अधिक महिलाएं जो भारत के सबसे बड़े आजीविका कार्यक्रम में से एक दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित हुईं, वे महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) तथा ग्रामीण निर्धन संघ में संगठित करके उनका सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ये प्लेटफॉर्म न केवल महिलाओं के लिए वित्तीय अवसरों और आजीविका सहायता सेवाओं की सुविधा प्रदान कर रहे हैं, बल्कि वे मुख्यधारा के संस्थानों के साथ संबंध बनाने और उनसे जवाबदेही की मांग करने के लिए शासन का एक विस्तारित हाथ भी बन गए हैं। ये प्लेटफॉर्म उम्मीद, सहनशीलता, आवाज उठाने, शिकायतों के निवारण प्राप्त करने तथा गरीब महिलाओं के अधिकारों और हकदारियों की सुनिश्चित प्राप्ति में संस्थान किस प्रकार सहायता कर सकते हैं, आदि से संबंधित सैकड़ों और हजारों महिलाओं की कहानियों से लबरेज हैं।

जेंडर संवाद, डीएवाई एनआरएलएम और आईडब्ल्यूडब्ल्यूएजीई का एक संयुक्त प्रयास है, जो देश भर में एनआरएलएम के हस्तक्षेपों और उत्तम प्रथाओं पर अधिक से अधिक जागरूकता सृजन के लिए एक साझा प्लेटफॉर्म तैयार करता है, जिसमें राज्यों और इस क्षेत्र से उठने वाली आवाज़ों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। द्वि-मासिक वेबिनार के रूप में आयोजित वेबिनार 'संवाद' राज्यों को निम्नलिखित अवसर प्रदान करेगा:

  • उन सर्वोत्तम प्रथाओं/पहलों को समझना जो महिलाओं की एजेंसी को बेहतर बनाने के लिए अन्य राज्यों ने किए हैं (जैसे भूमि अधिकारों के लिए महिलाओं की पहुंच को सुविधाजनक बनाना, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) में उनकी भागीदारी, सार्वजनिक सेवा वितरण के लिए मजबूत संस्थानों की स्थापना में एफएनएचडब्ल्यू की सर्वोत्तम प्रथाएं, महिलाओं में संवेदनशील समूहों के संरक्षण और शिकायत निवारण की व्यवस्था (जैसे डायन घोषित करके प्रताड़ित करना आदि)।
  • विश्व स्तर पर लैंगिक हस्तक्षेप को समझना;
  • मुद्दों/कार्यान्वयन बाधाओं को प्रबंधित करने के विषय में विशेषज्ञों तथा अन्य सहयोगियों के सुझाव लेना; 
  • देश/विदेश में लैंगिक हस्तक्षेप की सर्वोत्तम प्रथाओं पर संसाधन सामग्री के साथ 'जेंडर भंडार' (जेंडर रिपॉजिटरी) के सृजन का समर्थन; तथा
  • एसआरएलएम और एनआरएलएम में लैंगिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता के के विषय में जागरूक करना।

महामारी के वर्तमान संदर्भ में, व्यापक नीतियों और इस तरह की पहल के तहत अधिक सूक्ष्म प्रक्रियाओं को समझने के लिए विविध हितधारकों के साथ ऐसे संवादों को शुरू करने का यह उपयुक्त समय है। ऐसा करने से, जेंडर संवाद राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (जो अपने अनुभव साझा करेंगे) के प्रतिनिधियों से लेकर एनआरएलएम के वरिष्ठ अधिकारियों, नागरिक समाज के प्रतिनिधियों, शैक्षणिक और बहुपक्षीय संस्थानों के प्रतिनिधियों और दुनिया भर में महिला सशक्तिकरण कार्यक्रमों को लागू करने वाले अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों को कवर करेगा, जो राज्यों को अपनी प्रतिक्रिया और संस्तुतियां प्रदान करेंगे।

 

जेंडर संवाद का शुभारम्भ, 16 अप्रैल, 2021

भारतीय स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए चल रहे अमृत महोत्सव के अंग के रूप में, जेंडर संवाद 16 अप्रैल, 2021 को शुरू किया गया था, जिसमें सम्पूर्ण भारत से ग्रामीण महिलाओं, राज्य के प्रतिनिधियों, सीएसओ और शिक्षाविदों सहित लगभग 1400 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था। इस कार्यक्रम में मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया जिसमें ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री नगेंद्र नाथ सिन्हा, ग्रामीण विकास मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव श्रीमती अलका उपाध्याय और एनआरएलएम की संयुक्त सचिव श्रीमती नीता केजरीवाल शामिल थे। कम्युनिटी रिसोर्स पर्सन , जो विभिन्न राज्यों की महिला एसएचजी की सदस्य हैं, को भी  की अपने जीवन और आजीविका में सुधर में आई अनेक बाधाओं को पर करने के अपने अनुभवों को हमसे साझा के लिए आमंत्रित किया गया था। उद्घाटन सत्र का विषय "जेंडर परिवर्तनकारी ग्रामीण आजीविका" था।

उद्घाटन समारोह के दौरान, विभिन्न राज्य ग्रामीण आजीविका मिशनों द्वारा साझा किए गए एसएचजी महिलाओं के बीच अच्छी प्रथाओं और सहिष्णु और रूपान्तरकारी परिवर्तनों की कहानियों का दस्तावेजीकरण करके घटनाओ का अध्ययन के एक संग्रह "सहिष्णुता और आशा की कहानियाँ" को ग्रामीण विकास  सचिव द्वारा इस कार्यक्रम में लॉन्च किया गया था। इसकी कहानियां मजबूत सामूहिकता के साथ-साथ व्यक्तिगत पहचान विकसित करने में महिला समूहों को सशक्त करने के लिए अपनाई गई प्रणालीगत प्रक्रियाओं का वर्णन करती हैं। संयुक्त सचिव, एनआरएलएम, श्रीमती नीता केजरीवाल द्वारा एक लघु फिल्म का प्रमोचन किया गया जिसमें न्याय, सूचना, अधिकारों तथा हकदारियों तक पहुंच के लिए एनआरएलएम की लैंगिक कार्यनीति के संचालन तथा संस्थागत मंच स्थापित करने हेतु IWWAGE के सहयोग का प्रदर्शन किया गया है। तीन राज्यों-आंध्र प्रदेश, झारखंड और केरल ने उद्घाटन सत्र के दौरान एक प्रस्तुति दी . इस में सामाजिक मानदंडों को चुनौती देकर आजीविका के अवसरों तक पहुंचने के लिए महिलाओं के सामूहिक संघर्ष और एसएचजी मंच का लाभ उठाकर चैंपियन के रूप में उभरने की कहानी प्रदर्शित की गयी। इसके बाद एक पैनल चर्चा हुई जिसमें महिलाओं की आजीविका, उनकी एजेंसी, और उनके अधिकारों और पात्रता के संबंध में उनकी समझ में सुधार के महत्व पर जोर देने के लिए प्रमुख लैंगिक और आजीविका विशेषज्ञ शामिल थे। पैनल में डॉ. लक्ष्मी लिंगम, डीन, स्कूल ऑफ मीडिया एंड कल्चरल स्टडीज, टीआईएसएस; सुश्री सेजल डांड, निदेशक और संस्थापक सदस्य, आनंदी; और डॉ. रेणु गोलवलकर, ग्लोबल डायरेक्टर, जेंडर, यूथ एंड सोशल इनक्लूजन, एंजेंडर हेल्थ शामिल थे। सत्र का संचालन IWWAGE प्रमुख सौम्या कपूर मेहता ने किया। रिकॉर्डिंग के लिए यहां क्लिक करें।

 

जेंडर संवाद, दूसरी वार्ता, 2 जुलाई, 2021

दूसरा लिंग संवाद 2 जुलाई, 2021 को " कोविड से उभरने और एक समावेशी प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने के लिए : एसआरएलएम की सर्वोत्तम प्रथाएँ " विषय पर आयोजित किया गया था। यह आयोजन महामारी की दूसरी लहर से उत्पन्न चुनौतियों और महिला समूहों की सामूहिक क्षमता और एकजुटता का लाभ उठाकर राज्य किस हद तक इनका जवाब देने में सक्षम हुए हैं, पर केंद्रित था। संवाद में,  स्वास्थ्य और अन्य सेवाओं तक पहुंच, कोविड-19 से संबंधित जानकारी, भोजन की उप्लब्धता  और काम के अवसरों सहित उभरती आवश्यकताओं की पूर्ति में राज्यों की सर्वोत्तम प्रथाओं को प्रदर्शित किया गया । इस  ऑनलाइन कार्यक्रम में महामारी से प्रभावित महिलाओं के साथ-साथ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अधिकारियों की आवाज को एक मंच पर लाया। दूसरे संवाद में मुख्य राज्य  बिहार, केरल और मेघालय थे, जिन्होंने बताया कि कैसे वे समुदायों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित कर रहे हैं और सभी आयु समूहों कोस्वास्थ्य संबंधी जानकारी तक पहुंचा  रहे हैं। दूसरे संवाद में विभिन्न राज्यों के 2400 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया।

संसद सदस्य श्रीमती अपराजिता सारंगी; ग्रामीण विकास मन्त्रालय के सचिव श्री नागेंद्र नाथ सिन्हा; ग्रामीण विकास मन्त्रालय की अतिरिक्त सचिव श्रीमती अलका उपाध्याय, संयुक्त सचिव श्रीमती नीता केजरीवाल जेंडर संवाद के दूसरे संस्करण में उपस्थित थे। राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों में सीईओ सह राज्य मिशन निदेशक, जीविका, ग्रामीण विकास सचिव, बिहार सरकार श्री बालमुरुगन डी, केरल सरकार के कार्यकारी निदेशक, कुदुम्ब श्री. एस. हरिकिशोर; और मेघालय सरकार के प्रमुख सचिव श्री. पी संपत कुमार, सीएंडआरडी विभाग स्वास्थ्य और समाज कल्याण विभाग, तीन राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों ने एनआरएलएम सामाजिक पूंजी का उपयोग करके राज्यों द्वारा स्थापित प्रतिक्रिया और वसूली तंत्र पर अपनी सूझबूझ और अनुभव साझा किए। इस आयोजन में क्षेत्रीय लोगों को भी अवसर दिया गया, तथा महिला सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों से अनुभव साझा किया, जिन्होंने अपने परिवारों के सामने आने वाली समस्याओं, अपनाये गये अनुकूलित तंत्रों, महामारी के दौरान उनके समूहों की भूमिका, ग्राम स्तर पर किए गए कर्तव्यों और भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयारियों के बारे में बात की। रिकॉर्डिंग के लिए यहां क्लिक करें।

Best Practices/Resources
बेहतरीन कार्यप्रणाली
Gender Samvaad, Second Dialogue


READ MORE
From Aspiration to Empowerment: Impact of Women’s Collectives

READ MORE
Stories of Resilience and Hope


READ MORE
Multimedia
बहुमाध्यम
Gender Samvaad, Second Dialogue


VIEW MORE
National Webinar on sharing of best practices adopted for addressing gender issues by VO SACs
VIEW MORE
Gender Samvaad Launch Address by Secretary, AS, and JS MoRD

VIEW MORE
Reflections by SHG women from the field



VIEW MORE
Gender Samvaad Panel Discussion



VIEW MORE
Changemakers: Inspiring Stories of Women's Collectives


VIEW MORE
Gender Integration in NRLM



VIEW MORE
Upcoming Events
शीघ्र होने वाला कार्यक्रम