Register with us
#
#

Each time a woman stands up for herself, without knowing it possibly, without claiming it, she stands up for all women

 --Maya Angelou

About Gender Samvaad:

With over 60 million women mobilised to be part of one of India’s largest livelihoods programme, the Deendayal Antayodaya Yojana-National Rural Livelihoods Mission (DAY-NRLM) holds great promise for advancing women’s socio-economic empowerment by organising them into self-help groups (SHGs) and federations of the rural poor. Not only are these platforms facili tating financial opportunities and livelihood support services for women, but they have also become an extended arm of governance to demand accountability from and build linkages with mainstream institutions. They also hold stories of hundreds and thousands of women – stories of hope, resilience, raising voice, getting redress, and many best practices on how institutions of poor women can help them ensure access to their rights and entitlements.

Gender Samvaad is a joint attempt between DAY NRLM and IWWAGE to create a common platform for generating greater awareness on NRLM’s interventions across the country and best practices, with a focus on hearing voices from the states and the field. Organized as a bi-monthly webinar, the Samvaad will provide states with opportunities to:

  • Understand best practices/initiatives that other states have been undertaking to improve women’s agency (e.g. facilitating women’s access to land rights, their engagement in farmer producer organizations (FPOs), best practices around FNHW, in establishing strong institutions for public service delivery, in protecting and providing redress to vulnerable groups within women (e.g. practices against witch hunting) etc.))
  • Understand gender interventions globally;
  • Engage with experts and other colleagues on suggestions regarding how to handle issues/implementation barriers;
  • Contribute to creation of a ‘gender repository’ with resource materials on best practices for gender interventions across the country/other countries; and
  • Build advocacy around the need to focus on gender issues across SRLMs and the NRLM.

In the current context of the pandemic, time is opportune to initiate such dialogues with a varied range of stakeholders to comprehend broader policies and more micro processes underlying such initiatives. In doing so, Gender Samvaad will cover stakeholders ranging from representatives of state rural livelihood missions (who would share their experiences) to NRLM’s senior officials, representatives from civil society, academia and multilateral institutions, and international experts implementing similar women’s empowerment programs around the world, who would offer their feedback and recommendations to the states.

प्रत्येक बार महिला स्वयं के लिए उठ खड़ी होती है, संभवत: अनजाने में, बिना कोई दावा किए, वह सभी महिलाओं के लिए संघर्ष का प्रतीक बन जाती है।

  --माया एजेलो

जेंडर संवाद के विषय में :

60 मिलियन से अधिक महिलाएं जो भारत के सबसे बड़े आजीविका कार्यक्रम में से एक दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित हुईं, वे महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) तथा ग्रामीण निर्धन संघ में संगठित करके उनका सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ये प्लेटफॉर्म न केवल महिलाओं के लिए वित्तीय अवसरों और आजीविका सहायता सेवाओं की सुविधा प्रदान कर रहे हैं, बल्कि वे मुख्यधारा के संस्थानों के साथ संबंध बनाने और उनसे जवाबदेही की मांग करने के लिए शासन का एक विस्तारित हाथ भी बन गए हैं। ये प्लेटफॉर्म उम्मीद, सहनशीलता, आवाज उठाने, शिकायतों के निवारण प्राप्त करने तथा गरीब महिलाओं के अधिकारों और हकदारियों की सुनिश्चित प्राप्ति में संस्थान किस प्रकार सहायता कर सकते हैं, आदि से संबंधित सैकड़ों और हजारों महिलाओं की कहानियों से लबरेज हैं।

जेंडर संवाद, डीएवाई एनआरएलएम और आईडब्ल्यूडब्ल्यूएजीई का एक संयुक्त प्रयास है, जो देश भर में एनआरएलएम के हस्तक्षेपों और उत्तम प्रथाओं पर अधिक से अधिक जागरूकता सृजन के लिए एक साझा प्लेटफॉर्म तैयार करता है, जिसमें राज्यों और इस क्षेत्र से उठने वाली आवाज़ों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। द्वि-मासिक वेबिनार के रूप में आयोजित वेबिनार 'संवाद' राज्यों को निम्नलिखित अवसर प्रदान करेगा:

  • उन सर्वोत्तम प्रथाओं/पहलों को समझना जो महिलाओं की एजेंसी को बेहतर बनाने के लिए अन्य राज्यों ने किए हैं (जैसे भूमि अधिकारों के लिए महिलाओं की पहुंच को सुविधाजनक बनाना, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) में उनकी भागीदारी, सार्वजनिक सेवा वितरण के लिए मजबूत संस्थानों की स्थापना में एफएनएचडब्ल्यू की सर्वोत्तम प्रथाएं, महिलाओं में संवेदनशील समूहों के संरक्षण और शिकायत निवारण की व्यवस्था (जैसे डायन घोषित करके प्रताड़ित करना आदि)।
  • विश्व स्तर पर लैंगिक हस्तक्षेप को समझना;
  • मुद्दों/कार्यान्वयन बाधाओं को प्रबंधित करने के विषय में विशेषज्ञों तथा अन्य सहयोगियों के सुझाव लेना; 
  • देश/विदेश में लैंगिक हस्तक्षेप की सर्वोत्तम प्रथाओं पर संसाधन सामग्री के साथ 'जेंडर भंडार' (जेंडर रिपॉजिटरी) के सृजन का समर्थन; तथा
  • एसआरएलएम और एनआरएलएम में लैंगिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता के के विषय में जागरूक करना।

महामारी के वर्तमान संदर्भ में, व्यापक नीतियों और इस तरह की पहल के तहत अधिक सूक्ष्म प्रक्रियाओं को समझने के लिए विविध हितधारकों के साथ ऐसे संवादों को शुरू करने का यह उपयुक्त समय है। ऐसा करने से, जेंडर संवाद राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (जो अपने अनुभव साझा करेंगे) के प्रतिनिधियों से लेकर एनआरएलएम के वरिष्ठ अधिकारियों, नागरिक समाज के प्रतिनिधियों, शैक्षणिक और बहुपक्षीय संस्थानों के प्रतिनिधियों और दुनिया भर में महिला सशक्तिकरण कार्यक्रमों को लागू करने वाले अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों को कवर करेगा, जो राज्यों को अपनी प्रतिक्रिया और संस्तुतियां प्रदान करेंगे।

Best Practices/Resources
बेहतरीन कार्यप्रणाली
Stories of Resilience and Hope

READ MORE
Multimedia
बहुमाध्यम
Changemakers: Inspiring Stories of Women's Collectives

VIEW MORE
Gender Integration in NRLM


VIEW MORE
Upcoming Events
शीघ्र होने वाला कार्यक्रम